शुक्रवार, 2 मार्च 2018

कविता : जीवन


जीवन
एक पेड़ है
देता फूल-फल जब तक
सबका रहता चहेता
पंछी टहनी-टहनी
कूदते फांदते
करते कलरव
गाते गीत
तितलियाँ मंडरातीd
भंवरे गुनगुनाते |
होता प्रफुल्लित
पा कर स्पर्श
स्वर्णिम किरणों
चमचमाती पतियों 
मुस्कराती कोंपलों
बतियाती कलियों का |
उम्र ढलते ही  
खटकने लगता
आँखों में सबके
दूर होने लगते
सारे संगी अपने | 
जबकि होता है
सक्षम तब भी
बचाने में
वातावरण  
घर-आँगन
खेत-खलिहान
नन्हे पोधों
अलहड़ पेड़ों को   
आंधी-तूफान
तेज बारिश
लू के थपेड़ों
दम घोटते कोहरे
शर्दी के प्रकोप
नित बढ़ते पनपते
जहरीले कीड़ों से
फिर भी जीते जी
मरना पड़ता है |
@२०१८ विजय मधुर

मंगलवार, 23 जनवरी 2018

गढ़वाली कविता संग्रह “सर्ग दिदा पाणि-पाणि” का लोकार्पण


निवेदन : कृपया अपनी प्रति इन पोर्टल से मंगवा कर लोक भाषा के प्रोत्साहन हेतु सहयोग करें |
                     
AMAZON
SHOPCLUES

BLUE ROSE STORE
http://bluerosepublishers.com/product/sarg-dida-pani-pani/

लोकार्पण कार्यक्रम का विडियो :

_______________________________________________________________________________


         19, जनवरी'  2018 को माननीय  श्री  अजय  टम्टा,  केन्द्रीय   वस्त्र   राज्य  मंत्री,  भारत  सरकार                           द्वारा
श्री विजय कुमार “मधुर”  के   कविता संग्रह    सर्ग  दिदा पाणि-पाणि  का लोकार्पण  अपने  सरकारी  निवास 1, जंतर मंतर मार्ग , नई दिल्ली में किया गया| आज हमारे देश के गांवो से द्रुत                गति से पलायन शहरों की तरफ हो रहा है गाँव  के गाँव  खाली हो रहे हैं | वहां की अनगिनत समस्याओं,सामाजिक - राजनैतिक   परिवेश, रीति-रिवाज , खान-पान,  आचार - व्यवहार,  मेले, त्योहार, दैवीय  आपदाओं  और  निरंतर   बदहाल   हो   रही   दशा  का  कविताओं के  माध्यम से  सटीक  चित्रण  देखने  को मिलता  है देव भूमिउत्तराखंड की क्षेत्रीय भाषा गढ़वाली में रचित कविता संग्रह सर्ग दिदा पाणी-पाणीमें |       
   उत्तराखंड जर्नलिस्ट फोरम के सहयोग से आयोजित इस कार्यक्रम में काफी संख्या में गणमान्य व्यक्तियों ने अपनी उपस्थिति दर्ज करके कार्यक्रम को सफल बनाने में अपनी सहभागिता निभाई |
केन्द्रीय वस्त्र राज्य मंत्री माननीय श्री अजय टम्टा जी 
माननीय श्री अजय टम्टा जी ने पुस्तक की कुछ कविताओं का अवलोकन करते हुए पहाड़ों से हो रहे पलायन और समय-समय पर आयी दैवीय आपदाओं का जिक्र किया कैसे उत्तराखंड अलग-अलग जगहों में आयी आपदा से परिवार के परिवार खत्म हो गए पर गहरी चिंता जताई | पहाड़ों की घटती जनसँख्या के कारण वहां की विधानसभा सीटें कम होती जा रहीं हैं | पलायन कर रहे लोगों का उनकी मूल खाता-खतौनी, डाकघर, स्थानीय बैंकों से नाम मिट रहे है | बहुत ही गंभीर और विचारणीय प्रश्न है | जबकि हिमाचल के गाँवों की स्थिति भिन्न है | हिमाचल में साग-सब्जी, फल-फूल आदि को लोग मूल आवश्यकता के साथ-साथ व्यवसाय के रूप में भी देखते हैं | साथ ही कविता संग्रह के शीर्षक पर उन्होंने विस्तार से चर्चा की कि जब गाँव के धारे, पंदेरों, तालाबों में पानी कम होने लगता है तो चोळी(चातक) नाम के  इस पक्षी को चिंता सताने लगती है और वह आसमान से पानी की गुहार लगाता है और कभी जमीन में रुका हुआ पानी नहीं पीता| केवल आसमान से गिरती हुई बारिस की बूंदों से उल्टा उड़ता हुआ अपनी प्यास बुझाता है |


अखिल भारतीय उत्तराखंड महासभा के अध्यक्ष श्री विनोद कुमार नौटियाल ने सर्ग दिदा पाणि-पाणि बोलती पक्षी चोळी की दंत कथाओं पर आधारित बात बताई | लोग कहते हैं कि इस पक्षी ने मनुष्य योनि में कोई बढ़ा पाप किया था जिसके कारण उसे यह श्राप मिला | यदि वह जमीन का रुका हुआ पानी पिएगा तो वह खून बन जायेगा | इसलिए जैसे ही वह पानी के नजदीक जाता है तो उसे वह पानी नहीं रक्त दिखाई देता है |
कवि एवं रंगकर्मी डॉ. सतीश कालेश्वरी जो कि लैंसडौन कैन्टोमेंट बोर्ड में श्री विजय मधुर के पिता प्रसिद्ध समाज सेवी,शिक्षाविद् एवं साहित्यकार स्वर्गीय झब्बन लाल विद्यावाचस्पति के विद्यार्थी थे जैसा कि उन्होने अपने बक्तब्य में बताया | डॉ. कालेश्वरी जी ने पुस्तक में दर्ज कविताओं पर विस्तृत चर्चा करते हुए कहा कि विजय मधुर ने अपनी कविताओं के माध्यम से  पहाड़ की बिषम परिस्थितियों, दुःख-दर्द, महिलाओं की स्थिति, प्राकृतिक आपदाओं में होने वाली क्षति, नशे के बढ़ते प्रचलन, राजनीति आदि को स्पस्ट रूप से दर्शाया है | पहाड़ के जन जीवन का कोई भी पक्ष उन्होंने नहीं छोड़ा है | मधुर जी की एक कविता की झलक :  म्वाळौ  माद्यो
हम लेखि-पैढ़ि सकदां
गोष्ठी सम्मलेन कैरि सकदां
नै-नै अखबार
किताब छपै सकदां
पी.एच.डी. कैरि सकदां
म्वाळौ माद्यो बणै सकदां
अपणी बोली-भाषा
अर पहाडु तैं
पण भै
हत ज्वड़यां छन
वूं खरड़ा डांडौं
रौल़ा-कुमच्यरौं
जै नि सकदां
वख़ रै नि सकदां
अपणि बोली मा
       बचे नि सकदां ।
         *****

वरिष्ठ पत्रकार श्री सुनील नेगी ने कहा कि कवि ह्रदय होना अपने आप में एक बहुत बड़ी बात है | कवि जिस रूप में अपनी कविताओं के माध्यम से समाज का ताना-बाना बुनता है और अपनी कविताओं के माध्यम से समाज की सेवा करता है वह बहुत ही महत्वपूर्ण है | उसकी बराबरी कोई और नहीं कर सकता | आज उत्तराखंड के साहित्यकार अपनी बोली भाषा और संस्कृति को बचाने के लिए बहुत बड़ा काम कर रहे हैं उनकी जितनी तारीफ की जाय उतनी कम है |
वरिष्ठ साहित्यकार, पत्रकार एवं समाचार पत्र सन्डे पोस्ट के सम्पादक श्री अपूर्व जोशी ने अपने बक्तव्य में कहा कि आज हमारी क्षेत्रीय भाषाएँ खत्म होने की कगार पर है निश्चित तौर पर यह कविता संग्रह आने वाली पीढ़ी के लिए मार्ग दर्शन का कार्य करेगी |
कविता संग्रह “सर्ग दिदा पाणि-पाणि” के रचियता श्री विजय मधुर ने  इस अवसर पर सभी लोगों का आभार व्यक्त करते हुए कविता संग्रह के नाम से जुडी कविता का जिक्र किया और कहा आज हमारे पहाड़ों की स्थिति उस पक्षी चोळी की तरह हो गयी जिसके आस-पास पानी के अनगिनत श्रोत होते हुए भी उसे प्यासा रहना पड़ता है | आसमान से विनती करनी पड़ती है ताकि वह अपनी प्यास बुझा सके | साथ ही उन्होंने अपनी कविता सर्ग दिदा पाणि-पाणि को पूर्ण तन्मयता और लयपूर्ण ढंग से गा कर उपस्थित लोगों का मन मोहा |
अपने आप में अनूठे इस कविता संग्रह “सर्ग दिदा पाणि-पाणि” में लोक भाषा के प्रमुख स्तम्भ श्री लोकेश नवानी, बयोबृद्ध साहित्यकार श्री ललित केशवान, कवि डॉ. सतीश कालेश्वरी व कवि एवं समाज सेवी श्री दिनेश ध्यानी के प्रकाशित विचार पुस्तक की प्रमाणिकता सिद्ध करते हैं | श्री लोकेश नवानी जी ने लेख में श्री विजय मधुर को “पहाड़ का जीवन को चित्रकार” बताया है इसमें कोई अतिशयोक्ति नही | यह पुस्तक आपको Blue Rose Publication, Amazon, Flipkart, Shopclues पोर्टल पर Sarg Dida Pani Pani के नाम से उपलब्ध हो जायेगी | 

कार्यक्रम का सफल संचालन डॉ. सतेन्द्र प्रयासी जी द्वारा बड़े ही विद्वता पूर्ण  ढंग से किया गया जिसकी तारीफ किये बिना मंत्री जी भी न रह सके | इस अवसर पर गणमान्य व्यक्तियों में बरिष्ठ पत्रकार श्री योगेश भट्ट, प्रसिद्ध समाज सेवी श्री अनिल पन्त, प्रसिद्ध समाज सेवी श्री विनोद रावत, श्री  दीवान मुकेश सिंह, ललित प्रसाद, दीपक द्विवेदी, जितेन्द्र सजवाण, मयंक शाह, शास्त्री चन्द्र प्रकाश थपलियाल, बिरजू नेगी, अजय कुमार सिंह, शूरबीर सिंह नेगी, मुकुंद अग्रवाल, विजय चौधरी, जफर जैदी, देव प्रकाश, संतोष आर्य, देवेन्द्र आर्य, डॉ, ललित भाकुनी आदि मौजूद रहे | साभार : श्री सुनील नेगी,अध्यक्ष उत्तराखंड जर्नलिस्ट फोरम,दिल्ली |

मंगलवार, 16 जनवरी 2018

तीन कविताएँ

१. हैप्पी न्यू ईयर

न्यू ईयर की पार्टी 
इसने कहा उसने कहा
उसने कहा उसने कहा
करेंगे धमाल
धमाल धमाल धमाल।

बांहो में बाहें डालकर
आंखों में आंखे डालकर
आर्केस्ट्रा के फ्लोर पर
नाचेंगे सारी रात
करेंगे धमाल
धमाल धमाल धमाल।

इसकी यादें उसकी कस्में
कहां बिसरे हम
फिर यारो
किस बात का गम
आओ करें धमाल
धमाल धमाल धमाल।

लाइफ को नया मोड़ दो
नशा वशा छोड़ दो
बीती बातों का
कैसा मजाल
आओ करें धमाल
धमाल धमाल धमाल।
@ २०१८ विजय मधुर


                                         २. साया 


साया 

निभाता है साथ
कभी आगे कभी पीछे 
कभी दाएं कभी बाएं
बेजुबान फिर भी
कह देता सब कुछ
ना ही खाता कस्में
ना ही करता ढोंग 
बफादारी का ।
@२०१८ विजय मधुर






३. कहने वाले

कोशिश की है
बदलने की
पहाड़ की चोटी से 
सूरज को छूने की
उससे सवाल पूछने की
कि क्या तुम वही हो
जिसका ताप बना देता
शीतल जल को भाप
खारे को नमक
पिघला देता पुराने
चट्टान बने हिम खंड
क्या तुम्हारा ताप
नहीं पंहुच पाता है
अत्याचारियों
व्यभिचारियों
ढोंगी पाखंडियों
गद्दारों तक
जो स्वार्थ परक आये दिन
कर रहें हैं सौदा
लगा रहें हैं बोलियां
देश के अरमानों की
तुम मौन
अब मैं कौन
खींच लेता हूँ
हाथ पीछे
जल भी जाता
तो क्या हुआ
है तो नकली
कहने वालों की
कमी नहीं।

@२०१८ विजय मधुर


शुक्रवार, 12 जनवरी 2018

आग्रह : कविता संग्रह : मन की बातें

   १४ अगस्त २०१७ को मेरी दूसरी पुस्तक हिंदी कविता संग्रह "मन की बातें' ने साहित्य जगत में प्रवेश किया | पाठकों द्वारा कविता संग्रह को सराहा गया या नहीं यह तो नहीं जानता लेकिन फटे-पुराने कागजों में दम तोडती रचनाओं को किताब के रूप में नया जीवन अवश्य मिल गया | आज यह कविता संग्रह नीचे दिए गए लिंक्स पर उपलब्ध है | कृपया एक प्रति मंगवा कर हिंदी पुस्तकों एवं रचनाकार को प्रोत्साहित करने का एक आग्रह है |













श्री मनोज कुमार, विधायक दिल्ली एवं गणमान्य व्यक्तियों के साथ 

डॉ. विनोद बछेती, प्रवंध निदेशक डीपीएम्आई के साथ 

स्वयं, श्री मनोज कुमार एवं श्री ललित केशवान जी के साथ 

सुप्रसिद्ध साहित्यकार, पूर्व मुख्यमंत्री एवं सांसद डॉ.रमेश पोखरियाल निशंक जी के साथ 
प्राक्कथन
    कविता रसात्मक वाक्य को कहते हैं, जबकि गद्य रसात्मक होने पर भी कविता नहीं कहलाता | कविता जिस भाव को एक वाक्य में कह देती है गद्य उसे कई वाक्यों में भी नहीं समझा सकता | इसीलिए कविता स्मृति पटल में लहरों के रूप में स्थिर हो जाती है, जबकि गद्य  स्थिर होते हुए भी तरंगित होता रहता है | कविता भावों को जीवित करती है तो गद्य विचार बुद्धि की व्यायाम शाला का विषय है | एक युग था जब गद्य  और पद्य   अलग होते थे, लेकिन वर्तमान की कविता में भाव और विचार एक साथ देखे जा सकते हैं | पूर्व में पद्य   लिखना सरल और गद्य लिखना कठिन होता था, लेकिन वर्तमान में तो यह स्पष्ट नहीं हो पा रहा है, कवि कविता रच रहा है या गद्य  | इसीलिए इसे समीक्षा में आधुनिक कविता कहते हैं | आपके हाथों में कवि ‘मधुर’ का यह कविता संग्रह आधुनिक कविता का एक उदाहरण है |
      2 अक्टूबर सन 1964 में लैन्सडौन में जन्मे प्रसिद्ध समाजसेवी, शिक्षाविद् एवं साहित्यकार स्वर्गीय झब्बन लाल विद्यावाचस्पति और श्रीमती गायत्री देवी के सुपुत्र श्री विजय कुमार ‘मधुर’ को साहित्यिक होने का गुण अपने पिताश्री से ही प्राप्त हुआ | एम.कॉम., एम.सी.ए. जैसी उच्च शिक्षा की उपाधियों से अलंकृत और भारत सरकार के प्रमुख प्रतिष्ठान तेल एवं प्राकृतिक गैस निगम में प्रबंधक के रूप में कार्यरत श्री मधुर मूलतः पौड़ी गढ़वाल जनपद, मवालस्यूं पट्टी के अंतर्गत ‘रणस्वा’ नामक ग्राम के निवासी हैं | पूर्वजों की धरती और संस्कृति से अगाध श्रद्धा रखने वाले इस कवि को जहां ईश्वर ने साहित्य सृजन की अपार सम्भावना को लेकर इस धरती पर अवतरित किया, वहां कर्म के क्षेत्र में तन मन से समर्पित इस समाजसेवी नवयुवक को नव पीढ़ी के प्रेरणा स्रोत के रूप में यशस्वी होने का वरदान भी दिया |
      अनेक पत्र पत्रिकाओं में गढ़वाली और हिन्दी लेखों के लेखन, संपादन और कंप्यूटरीकरण में दक्ष इस नवयुवक ने जहां साहित्य को एक नई दिशा प्रदान की, वहां इन दोनों भाषाओँ में कहानी, कविता और नाटकों का सृजन कर साहित्यिक सृजन में सफल भूमिका निभायी है | वर्ष 1984 से निरन्तर साहित्य सेवा करने वाले कविवर मधुर का सबसे बड़ा ऐतिहासिक कार्य है, अपने पिताश्री झब्बन लाल विद्यावाचस्पति पर तैयार किया गया, उनका स्मृति ग्रन्थ, “प्रसिद्ध समाज सेवी, शिक्षाविद् एवं साहित्यकार स्वर्गीय झब्बन लाल विद्यावाचस्पति स्मृति ग्रन्थ” जिसे पढ़कर श्री विजय कुमार ‘मधुर’ की लेखन और संपादन कला के समक्ष नतमस्तक होने का मन करता है |
      श्री विजय कुमार ‘मधुर’ नवयुग के कवि हैं इसलिए इन्होने “काट छन्द डर के बन्धन स्तर” जैसे कविता अंश के संदेश पालन में छंदों का निषेध कर नए मुक्त छंद में कविताएं रची हैं | इस कविता संग्रह “मन की बात” की प्रथम कविता “चित्तशक्ति:” भले ही छंद विहीन कविता है लेकिन कवि ने इसे सलीखे और मधुर शब्दों में गूंथकर प्रस्तुत किया है जिसमें इनकी कविता कला का सहज अनुमान लगाया जा सकता है | कवि की यह छन्दविहीन कविता भले ही गीतों में गिनी जा सकती है लेकिन इसकी गतिशीलता किसी छंदयुक्त कविता से कम नहीं है |
      आज का युगीन कवि भले ही छायावाद का नाम सुनकर विदकने लगा है लेकिन यदि कवि प्रतिभावान हो तो उसके मुख से निकली ऐसी छायावादी कविता उसे एक सच्चा कवि होने का प्रमाणपत्र अवश्य देती है | कवि कहता है – “छोड़ दिया है अब मैंने,  अम्बर की ओर ताकना, सघन मेघमालाओं में, छिटकी चांदनी तलाशना |” 
      कवि के मन में जहां अदृश्य शक्ति के प्रति अपार आस्था भाव है, वहीं माता-पिता के प्रति अगाध श्रद्धा भी | इसीलिए कवि ‘मधुर’ अपने पिताश्री स्वर्गीय झब्बन लाल विद्यावाचस्पति के त्याग और बलिदान की ओर संकेत करते हुए कहता है – “आसमान में झिलमिलाते, सितारों के मध्य, देख सकता है तुम्हे वही, जिसने त्याग और बलिदान की, वेदना हो सही |” कवि इनके त्याग और बलिदान की व्याख्या करता हुआ कहता है “जीवन कर दिया समर्पित, माटी के नाम ...|”
      कवि की “मेरी माँ” कविता हृदय की गहराइयों से निकली ऐसी कविता है, जिससे प्रत्येक पर्वतवासी, ग्रामीण, नवयुवक तादात्म्य स्थापित कर इसके भावों और वर्ण्य विषय में अपनी माँ की छवि देखता है | यही नहीं इस कविता को यदि प्रत्येक गढ़वाली नारी की प्रतीकात्मक छवि दर्शन वाली कविता कह दें तो अत्युक्ति न होगी | कवि अपनी माता की छवि शब्दों के माध्यम से अंकित करता है – “गीली लकड़ी सुलगता चूल्हा |”
      इस कविता में कवि मधुर ने अपने शब्द और भावों से जो चित्र खींचा है, उसे बनाने में व्यक्ति को मन का रंग और विचारों की कूचिका की आवश्यकता पड़ती है | कवि मधुर ने अपने स्वभावनुकूल प्रकृति के जो दृश्य सहृदय पाठकों के समक्ष प्रस्तुत किए हैं वे चाहे स्वयं में इतने स्पष्ट और स्वच्छ हो न हों, लेकिन उनकी अनुकृति, अरस्तु के “अनुकृति सिद्धान्त” को सफल सिद्ध करती है, कवि की “रक्षक” कविता इसका प्रमाण देती है – “तपती धूप, आंधी-तूफान से बचाकर, पाल पोसकर बड़ा किया, जिन पेड़ों को |” 
            कवि मधुर के इस संग्रह “मन की बात” में विविध विषयों एवं रंगों की कविताएं हैं | राजनैतिक, सामाजिक, सांस्कृतिक, आर्थिक और साहित्यिक विषयों की कविताएं भी इसकी श्रीवृद्धि करती है | साहित्यिक विषय पर लिखी इनकी कविता “हिन्दी दिवस” में कवि अपनी कविता संपति की ओर संकेत करते हुए कहता है कि “हिन्दी दिवस” के बहाने मैं प्रत्येक वर्ष अपनी सोयी हुई कविताओं में से एक को जगा लेता हूं | कवि की यह कविता मानवीयकरण अलंकार का अद्वितीय उदाहरण है जो कि एक यथार्थवादी कविता है | 
      इस कविता संग्रह की एक कविता है ‘नकाब’ यह एक ऐसा व्यंग्य है जो बहुभेषी राजनीतिकों पर कसा गया है, कवि कहता है – “नकाबों का बाजार गर्म है, बिक रहे हैं खूब, फुटपाथों से लेकर वातानुकूलित, बड़ी-बड़ी दुकानों पर |”
      आज का सत्य, प्रगति का प्रतीक और उन्नति की लीक बन गया है कम्प्यूटर | लेकिन इसने जीवन की धारा बदल दी है, अब नई पीढ़ियां उदास हैं | इसने हमें अपना गुलाम बना दिया है कि हम अपने ढंग से सोच भी नहीं सकते | इससे हमारी संवेदनाएं समाप्त हो चुकी हैं | कवि इसी ओर संकेत करके कहता है – “कंप्यूटर युग, कंप्यूटरी बातें,  लम्बे दिन, छोटी रातें |” 
      कवि मधुर कवि ही नहीं, विचारक भी हैं तो विचारों के प्रचारक भी | इन विचारों को प्रश्नों के माध्यम से साहित्य जगत तक पहुंचाने वाले इस कवि के ‘मन’ में पांच प्रश्न उभरते हैं | इन प्रश्नों का सम्बन्ध है अपराध, न्याय, क़ानून, प्रतिभूति(जमानत) और सजा से | इनकी परिभाषा पूछने वाला यह कवि कहीं न कहीं आज के न्याय और उससे आहत उस व्यक्ति के विषय में सोचता है, जो अपराधी है ही नहीं | कवि ने केवल मुक्त छंद में ही कविता को कलेवर नहीं सौंपा अपितु गीत शैली की कविता भी गुनगुनाई है | “नींद हराम, मैं क्या करूं मेरे राम !”
      कुल मिलाकर इस कविता संग्रह से कवि ‘मधुर’ की जो कविताएं पाठकों के हाथों में आयी हैं, उनकी भाषा बड़ी मधुर, वाक्य नपे तुले और शब्द चयन प्रशंसनीय है | न तो इनमें आज के दिलजले कवियों की अश्लील भाषा और नहीं द्वेष फैलाने वाले भाव | इन कविताओं में आक्रोश, ईर्ष्या और द्वेष भावना तो दूर-दूर तक दिखाई नहीं देती | यह कविता संग्रह, सभ्य संसार की संस्कृतिपरक अभिव्यक्ति है |
      कवि विजय कुमार ‘मधुर’ का रचना जगत में स्वागत हो, इन्ही शुभकामनाओं के साथ मै अपने शिष्य को साहित्य जगत में आगे बढ़ने का आशीर्वाद देता हूं |

 डॉ. नन्दकिशोर ढौंडियाल ‘अरुण’
राजकीय स्नातकोत्तर  महाविद्यालय
कोटद्वार, पौड़ी गढ़वाल 

रविवार, 15 अक्तूबर 2017

कविता : छलकने दो आंसू

छलकने दो आंसू
मत रोको
करने दो मनमानी उसे 
मत कोसो 
कौन कहता है ये
अपनों ने दिए हैं घाव
मिल ही जायेगी
तपती दुपहरी में
किसी पेड़ की छांव
छलकने दो आंसू ............
किश्मत, अपना-पराया
एक फेर है
यह जँहामाटी का ढेर है
पनपते इसी में
सारे जीवी-परजीवी
पेड़-पौधे, बनस्पति
कभी तो आयेगी
उसे सुमति
छलकने दो आंसू.........
नदी-नाले उफनते हैं
ख़ास मौसम में
सागर की लहरें
पार कर देतीं हैं हद
सीमा निर्धारित है सबकी
क्षणिक है कद और मद |
छलकने दो आंसू ........
@२०१७ विजय मधुर